city-and-states

यूपी पंचायत चुनाव 2021: गोरखपुर में एआरओ सहित 19 गिरफ्तार, पांच अलग-अलग मामलों में केस दर्ज

गोरखपुर जिला पंचायत सदस्य के चुनावी नतीजों के मामले में हुए विवाद के बाद पुलिस-प्रशासन गुरुवार को एक्शन में दिखा। इस मामले में चुनाव के सहायक रिटर्निंग आफिसर (एआरओ) व सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता वीरेंद्र कुमार यादव सहित 19 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इन सबकी गिरफ्तारी अलग-अलग मामलों में हुई है। एआरओ को हारे हुए व्यक्ति को जीत का प्रमाण पत्र देने और इसकी वजह से बवाल का आरोपी बनाया गया है। एआरओ मूलरूप से जौनपुर के रहने वाले हैं। दूसरी तरफ पांच अलग-अलग तहरीर पर झंगहा पुलिस ने एआरओ सहित 61 नामजद व 500 अज्ञात लोगों पर तोड़फोड़, बलवा, हत्या के प्रयास, लूट, 7 सीएलए, सरकारी काम में बाधा डालने, आपराधिक साजिश रचने, आपदा प्रबंधन अधिनियम व आवश्यक सेवाओं को बाधित करने के आरोप में केस दर्ज किया है। जानकारी के मुताबिक, जिला पंचायत सदस्य की मतगणना में वार्ड नंबर 60 से रवि प्रताप को जीत मिली थी लेकिन एआरओ वीरेंद्र कुमार यादव ने जीत का प्रमाण पत्र हारे हुए प्रत्याशी गोपाल यादव को दे दिया था। इसी तरह वार्ड नंबर 61 के विजेता कोदई साहनी की जगह जीत का प्रमाण पत्र रमेश उर्फ गब्बर यादव को दिया था। इससे नाराज प्रत्याशी और उनके समर्थकों ने गत बुधवार को जमकर उत्पात मचाया था। नई बाजार पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिया था। पुलिस कर्मियों के आवास में घुसकर लूटपाट की थी। पुलिस कर्मियों पर पथराव व फायरिंग के भी आरोप हैं। बवाल के बाद जिला प्रशासन ने रवि प्रताप निषाद व कोदई साहनी को विजेता घोषित कर दिया। साथ ही जीत का प्रमाण पत्र भी दे दिया। अब बवाल की वजह और उत्पात मचाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। पुलिस, प्रशासन का रुख सख्त है। इसी का नतीजा है कि जीत का गलत प्रमाण पत्र देने वाले एआरओ वीरेंद्र कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। पूरी रात जिले के कई थानों व चौकियों की पुलिस इलाके में दबिश दी।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 07, 2021, 09:54 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »


गोरखपुर जिला पंचायत सदस्य के चुनावी नतीजों के मामले में हुए विवाद के बाद पुलिस-प्रशासन गुरुवार को एक्शन में दिखा