hindi

आत्महत्या के लिए उकसाई थी शिक्षिका, सीआईडी जल्द दाखिल करेगी चार्जशीट

शिमला जिले के रामपुर के एक निजी स्कूल की शिक्षिका के आत्महत्या के मामले में सीआईडी की जांच अंतिम दौर में पहुंच गई है। अब तक की जांच में पीड़ित परिवार की ओर से लगाए गए प्रताड़ना और आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप सही पाए गए हैं। वहीं, हैंड राइटिंग एक्सपर्ट की रिपोर्ट भी आ गई है। जिसमें सुसाइड नोट में शिक्षिका की ही हैंडराइटिंग की पुष्टि हुई है। बताया जा रहा है कि मामले में तथ्य सामने आने के बाद दहेज उत्पीड़न की धाराआें को भी जोड़ा जा रहा है। साथ ही जल्द ही जांच एजेंसी कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर सकती है। नौ जून को रामपुर में शिक्षिका की आत्महत्या के बाद पुलिस की जांच पर परिवार के लोगों ने काफी सवाल उठाए थे। जांच को किसी और एजेंसी को देने की मांग करते हुए हंगामा भी किया था। विवाद बढ़ने के बाद डीजीपी संजय कुंडू ने डीआईजी क्राइम बिमल गुप्ता की निगरानी में एडिशनल एसपी नरवीर राठौर को जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया था। जांच की शुरूआत में दोनों अधिकारियों ने मौका मुआयना कर घटना का रीक्रिएशन किया था। इस दौरान फारेंसिक ब्यूरो के निदेशक अरुण शर्मा ने भी घटनास्थल का निरीक्षण किया था। इस दौरान परिजनों ने कई तरह के आरोप लगाते हुए साक्ष्य भी उपलब्ध कराए थे। जांच आगे बढ़ी तो आत्महत्या के लिए उकसाने और मजबूर करने के साक्ष्य पुख्ता होते गए। वहीं दहेज के लिए प्रताड़ित किए जाने की भी पुष्टि होने पर जांच टीम ने 498 ए भी जोड़ दी। सूत्रों के अनुसार इस महीने के अंत तक जांच टीम चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर सकती है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Aug 11, 2020, 11:46 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




आत्महत्या के लिए उकसाई थी शिक्षिका, सीआईडी जल्द दाखिल करेगी चार्जशीट #SuicideCaseShimla #CidShimla #ShineupIndia