urdu-adab

चेहरा देखें तेरे होंट और पलकें देखें - तहज़ीब हाफ़ी

चेहरा देखें तेरे होंट और पलकें देखें दिल पे आंखे रखें तेरी सांसें देखें सुर्ख़ लबों से सब्ज़ दुआएंफूटी हैं पीले फूलों तुम को नीली आंखें देखें साल होने को आया है वो कब लौटेगा आओ खेत की सैर को निकलें कूजें देखें थोड़ीदेर में जंगल हम को आक़ करेगा बरगद देखें या बरगद की शाख़े देखें मेरे मालिक आप तो सब कुछ कर सकते हैं साथ चलें हम और दुनिया की आंखें देखें हम तेरे होंटो की लर्ज़िश कब भूले हैं पानी में पत्थर फेंके और लहरें देखें

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 04, 2021, 15:29 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »

tahzeeb hafi ghazal chehra dekhein tere hont aur palkein dekhein चेहरा देखें तेरे होंट और पलकें देखें - तहज़ीब हाफ़ी