city-and-states

गन्ने की खोई से बनेगी इको फ्रेंडली क्रॉकरी, फाइबर और पार्टिकल बोर्ड भी बनाए जा सकते

कानपुर में गन्ने की खोई से इको फ्रेंडली क्रॉकरी तैयार हो सकती है। साथ ही इससे खाने वाले फाइबर और पार्टिकल बोर्ड भी बनाए जा सकते हैं। पार्टिकल बोर्ड का इस्तेमाल फर्नीचर निर्माण में होता है। नेशनल शुगर इंस्टीट्यूट (एनएसआई) ने चीनी उद्योगों को खोई से वैकल्पिक उत्पाद तैयार करने का सुझाव दिया है। इससे उद्योग को मुनाफा और स्टार्टअप को बल मिलेगा। एनएसआई के निदेशक प्रो. नरेंद्र मोहन ने बताया कि गन्ने की खोई से ऊर्जा उत्पादन अब उतना लाभकारी नहीं रह गया है। ऐसी परिस्थिति में चीनी उद्योगों को मूल्यवर्धित उत्पादों की तरफ ध्यान देने की जरूरत है। इस संबंध में दो जुलाई को वेबिनार का आयोजन होगा। इसका विषय गन्ने की खोई का वैकल्पिक उपयोग रखा गया है। खोई से प्लास्टिक और अन्य नैनो पार्टिकल तैयार हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि वेबिनार में श्रीलंका, नेपाल, केन्या, ब्राजील, नाइजीरिया, थाईलैंड, इंडोनेशिया आदि देशों के छह सौ से अधिक प्रतिनिधियों ने पंजीकरण कराया है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jun 30, 2020, 10:39 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




गन्ने की खोई से बनेगी इको फ्रेंडली क्रॉकरी, फाइबर और पार्टिकल बोर्ड भी बनाए जा सकते #SugarcaneBagasse #Sugarcane #EcoFriendly #EcoFriendlyCrockery #KanpurNews #UpNews #ShineupIndia