city-and-states

गलत तरीके से सरकारी लाभ लेने वाले प्रशासन के रडार पर

गलत तरीके से सरकारी लाभ लेने वाले प्रशासन के रडार परसंतकबीरनगर। खुद को बाहर से आए श्रमिक बताकर गलत तरीके से सरकारी लाभ लेने की कोशिश करने वाले प्रशासन के रडार पर आ गए हैं। पुलिस की रैंडम जांच में 48 लोगों की कॉल डिटेल से उनकी लोकेशन नहीं मिली है। एसडीएम की ओर से कराए गए सत्यापन में इसकी पुष्टि होगी तो संबंधित लोगों पर केस भी दर्ज हो सकता है। लॉकडाउन में अब तक जिले में करीब एक लाख लोग मुंबई, दिल्ली, हरियाणा, गुजरात आदि प्रांतों से लौट चुके हैं। शासन की ओर से इन लोगों को अनाज का किट और उनके खाते में 1000 रुपये दिए जाने का निर्देश है। ऐसे में कोई गलत तरीके से लाभार्थी बनकर शासन की ओर से प्रदत्त योजनाओं का लाभ न हासिल कर ले, इसको लेकर प्रशासन सतर्कता बरत रहा है। धनघटा क्षेत्र में एक ही शख्स ने अलग-अलग तिथियों में अनाज के दो किट प्राप्त कर लिए थे। जांच में पुष्टि के बाद एसडीएम धनघटा ने एक किट वापस कराया। एडीएम संजय कुमार पांडेय और एएसपी असित कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि पूर्व में कराए गए सत्यापन में कुछ ऐसे लोग सामने आए थे, जो गलत तरीके से श्रमिकों की सूची में अपना नाम दर्ज करा लिए थे। वैसे अब तक एक लाख लोग लौट चुके है। श्रमिकों की ओर से थर्मल स्क्रीनिंग के दौरान अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर और किस प्रांत के किस शहर से लौटे हैं, इसका विवरण दर्ज कराया गया है। करीब 300 लोगों के बताए गए मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल निकलवाई गई। उसमें 48 मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल से पता चला कि संबंधित प्रवासी के जरिए बताए गए प्रांत व शहर की लोकेशन विगत छह महीने से वहां का नहीं मिला। इनका लोकेशन संतकबीरनगर का ही निकला है। इन सभी 48 लोगों का सत्यापन करने के लिए सूची संबंधित एसडीएम को भेज दिया गया है। एसडीएम निगरानी समितियों से सत्यापन करके रिपोर्ट देंगे। यदि सत्यापन में संबंधित का प्रवासी होना नहीं पाया गया तो उनके खिलाफ आपदा के दौर में सरकारी लाभ लेने की कोशिश करने के आरोप में केस दर्ज कराया जाएगा।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 29, 2020, 20:45 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




गलत तरीके से सरकारी लाभ लेने वाले प्रशासन के रडार पर #LockdownInSantkabeernasar #FoodKitLabour #ShineupIndia