city-and-states

नोएडा में कोरोना से युवक की मौत, अस्पताल ने थमाया 13.77 लाख का बिल

केंद्र और राज्य सरकारों की तरफ से भले ही एलान किया गया है कि निजी अस्पताल कोरोना के इलाज के लिए तय राशि के अनुसार ही बिल ले सकते हैं लेकिन शायद अभी तक यह बात नोएडा के निजी अस्पतालों को समझ नहीं आई है। यही वजह है कि एक कोरोना मरीज के इलाज के लिए अस्पताल ने परिवार को 13.77 लाख का बिल पकड़ा दिया। यह मरीज 20 दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहा और फिर उसकी मौत हो गई। यह मरीज एक यूनानी डॉक्टर था और इसकी मौत रविवार को हुई। उसे 7 जून को अस्पताल में भर्ती किया गया था, और 15 दिन से वह वेंटिलेटर पर था। हालांकि मीडिया में यह बात उजागर होने पर नोएडा सेक्टर-62 स्थित निजी कोविड अस्पताल फोर्टिस में रविवार को यूनानी चिकित्सक की कोरोना से मौत के बाद अस्पताल प्रशासन ने 13.77 से घटाकर उपचार खर्च 10.20 लाख रुपये कर दिया। परिजनों ने आरोप लगाया कि आरोप लगाया है कि बिल राशि घटाने से पता चलता है कि पहले गलत बिल बनाया गया था। गौरतलब है कि सेक्टर 11 में क्लिनिक चलाने वाले यूनानी चिकित्सक की मौत के बाद परिजनों ने अधिक बिल को लेकर रोष जताया था। हालांकि अस्पताल प्रशासन ने इससे इनकार किया था, लेकिन सोमवार को 10.20 लाख का बिल जारी कर दिया है। परिजनों का कहना है कि हमें विश्वास नहीं हुआ कि कोरोना के इलाज में इतनी राशि खर्च हो सकती है। वहीं अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि दवा और इलाज संबंधी सभी जानकारी जिले के सीएमओ को उपलब्ध करा दी गई है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jun 30, 2020, 10:09 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




नोएडा में कोरोना से युवक की मौत, अस्पताल ने थमाया 13.77 लाख का बिल #Coronavirus #CoronavirusIndia #FortisHospital #CoronavirusInUp #ShineupIndia