education

ग्लेशियर में 15 हजार साल से जिंदा है वायरस, मचा सकता है दुनिया में तबाही

चीन में कोरोनावायरस के कारण दुनियाभर में हाहाकार मची हुई है। इसी बीच वैज्ञानिकों ने एक नया शोध जारी किया है, जो दुनिया के बड़े खतरे की और इशारा कर रहा है। वैज्ञानिकों ने तिब्बत में 15 हजार साल पुराने वायरस के समूह का पता लगाया है। कोल्ड स्प्रिंग हार्बर लैब से संचालित बायो आर्काइव डाटाबेस में वैज्ञानिकों को ग्लेशियर से एक पुराना वायरस मिला है। यह वायरस हजारों साल पुरानी बीमारियों को वापस ला सकते हैं। साल 2015 में अमेरिका के वैज्ञानिकों की एक टीम तिब्बत पहुंची थी। टीम यह पता लगाना चाहती थी कि वहां ग्लेशियर के अंदर क्या है। उनके अध्ययन में चीन के उत्तर-पश्चिम तिब्बती पठार पर विशाल ग्लेशियर में 15 हजार साल से फंसे ऐसे वायरस को खोजा गया है, जिनको पहले कभी नहीं देखा गया। कोल्ड स्प्रिंग हार्बरलैब से संचालित बायो आर्काइव डाटाबेस में प्रकाशित शोध में बताया गया है कि कैसे वैज्ञानिकों ने 28 ऐसे वायरस समूहों की खोज की है, जिन्हें पहले कभी नहीं देखा गया।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jan 30, 2020, 22:09 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




ग्लेशियर में 15 हजार साल से जिंदा है वायरस, मचा सकता है दुनिया में तबाही #NasaSurvey #Virus #Coronavirus #GlobalWarming #ColdSpringHarbourLaboratory #BioArchiveDatabase #ShineupIndia