city-and-states

झारखंड में बोली पर विवाद: सीएम बोले- इज्जत लूटते वक्त भोजपुरी में दी जाती हैं गालियां, भाजपा ने पूछा- एक भाषा बोलने वाले बलात्कारी कैसे?

मगही और भोजपुरी पर झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन के विवादास्पद बयान के बाद भाजपा ने पलटवार किया है। भाजपा के भवनाथपुर विधायक भानु प्रताप शाही ने कहा है कि हेमंत सोरेन जाति, संप्रदाय और भाषा की राजनीति करना चाह रहे हैं। आरोप लगाया कि हिंदू का विरोध करते-करते वे हिंदी के विरोध पर पहुंच गए हैं। दरअसल, पिछले दिनों मुख्यमंत्री सोरेन ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि बोलियों के माध्यम से झारखंड का बिहारीकरण नहीं होने देंगे। मगही और भोजपुर झारखंड के लिए बॉरोड लैंग्वेज है। आंदोलनकारियों की छाती पर पैर रख, महिलाओं की इज्जत लूटते वक्त भोजपुरी में ही गाली दी जाती है। भोजपुरी बोलने वाले बलात्कारी कैसे हेमंत सोरेन के बयान के बाद भाजपा ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। विधायक भानु प्रताप शाही ने एक प्रेसवार्ता आयोजित कर कहा कि किसी एक भाषा को बोलने वाले सारे लोग बलात्कारी कैसे हो सकते हैं। अगर, भोजपुरी और मगही बोलने वाले लोग बलात्कारी हैं तो सीएम इसकी लिस्ट दें और बताएं वे किसके-किसके खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं। आरोप लगाया कि हेमंत सोरेन तुष्टीकरण की राजनीति कर रहे हैं। नमाज से शुरू हुआ उनका रास्ता कफन पर जाकर खत्म होगा। बोली इतनी खराब तो आरजेडी के साथ गठबंधन क्यों विधायक ने आरोप लगाया कि हेमंत सोरेन को अगर बिहार की बोली इतनी ही खराब लगती है तो उन्होंने आरजेडी के साथ गठबंधन क्यों किया है। वह उनके साथ सरकार कैसे चला रहे हैं।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Sep 15, 2021, 12:20 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »


हेमंत सोरेन के बयान के बाद भाजपा ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है। विधायक भानु प्रताप शाही ने एक प्रेसवार्ता आयोजित कर कहा कि किसी एक भाषा को बोलने वाले सारे लोग बलात्कारी कैसे हो सकते हैं।