business

मुद्राकोष ने जताई आशंका, 1930 के दौर के बाद इस साल वैश्विक अर्थव्यवस्था में आएगी सबसे बड़ी गिरावट

जॉर्जिवा ने अगले सप्ताह होने वाली आईएमएफ और विश्वबैंक की बैठक से पहले संकट से मुकाबला : वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए प्राथमिकताएं विषय पर अपने संबोधन में कहा कि आज दुनिया ऐसे संकट से जूझ रही है जो उसने पहले कभी नहीं देखा था। कोविड-19 ने हमारी आर्थिक और सामाजिक स्थिति को काफी तेजी से खराब किया है। ऐसा हमने पहले कभी नहीं देखा था। उन्होंने कहा कि इस वायरस से लोगों की जान जा रही है और इससे मुकाबले के लिए लॉकडाउन करना पड़ा है जिससे अरबों लोग प्रभावित हुए हैं। कुछ सप्ताह पहले सब सामान्य था। बच्चे स्कूल जा रहे थे, लोग काम पर जा रहे थे, हम परिवार और दोस्तों के साथ थे। लेकिन आज यह सब करने में जोखिम है। जॉर्जिवा ने कहा कि दुनिया इस संकट की अवधि को लेकर असाधारण रूप से अनिश्चित है। लेकिन यह पहले ही साफ हो चुका है कि 2020 में वैश्विक वृद्धि दर में जोरदार गिरावट आएगी। उन्होंने कहा, हमारा अनुमान है कि हम महामंदी के बाद की सबसे बड़ी गिरावट देखेंगे। आईएमएफ प्रमुख ने कहा कि सिर्फ तीन महीने पहले हमारा अनुमान था कि हमारे 160 सदस्य देशों में 2020 में प्रति व्यक्ति आय बढ़ेगी। अब सब कुछ बदल गया है। अब 170 से अधिक देशों में प्रति व्यक्ति आय घटने का अनुमान है। महामंदी को दुनिया की अर्थव्यवस्था के सबसे बुरे दौर के रूप में जाना जाता है। इसकी शुरुआत 1929 में अमेरिका में वॉलस्ट्रीट पर न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज के ढहने से हुई थी। महामंदी का दौर करीब दस साल चला था।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Apr 09, 2020, 21:30 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




मुद्राकोष ने जताई आशंका, 1930 के दौर के बाद इस साल वैश्विक अर्थव्यवस्था में आएगी सबसे बड़ी गिरावट #InternationalMonetaryFund #GlobalEconomy #CoronaPandemic #EconomyContraction #1930sEconomicDepression #ShineupIndia