national

प्रतिबंधों की काट तलाशने में जुटा चीन, सिंगापुर और हांगकांग के जरिए भारत में कर सकता है निवेश

चीन भारत के खिलाफ नई-नई चालें चल रहा है। कभी वह भारतीय जमीन को अपना बता रहा है, तो कभी साइबर अटैक को अंजाम देने का प्रयास कर रहा है। वहीं, भारत को शक है कि चीन हांगकांग और सिंगापुर जैसे किसी तीसरे पक्ष के माध्यम से माल और निवेश की आपूर्ति करके अनुचित व्यापार व्यवहार में संलग्न हो सकता है। मामले से जुड़े लोगों के मुताबिक, हाल के डाटा से पता चलता है कि जिन देशों के साथ मुक्त व्यापार समझौता(एफटीए), तरजीही व्यापार समझौता(पीटीए) या अन्य द्विपक्षीय वाणिज्यिक व्यवस्थाएं हैं, उन देशों के जरिए चीन भारत में सामान और निवेश बढ़ा सकता है। उन्होंने कहा कि यह न केवल अवैध है, बल्कि घरेलू उद्योग को भी नुकसान पहुंचा रहा है। यह भी पढ़ें:चीन की कायरना हरकत, साइबर हमलों से सूचना और वित्तीय भुगतान प्रणालियों को बना रहा निशाना बता दें कि, लद्दाख की गलवां घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद एशिया के दो सबसे बड़े देशों के बीच तनाव अपने चरम पर पहुंच गया है। इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं, इस झड़प के बाद से लोग चीनी सामानों के बहिष्कार की बात कर रहे हैं। आंकड़ों से पता चलता है कि चीन से कुल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) घटा है, लेकिन कई भारतीय फर्मों ने चीनी निवेश प्राप्त किया है। इसी तरह, हाल ही में चीन से आयात में मामूली गिरावट दर्ज की गई है, लेकिन इस दौरान हांगकांग और सिंगापुर से आयात में वृद्धि हुई है। इन आंकड़ों से पता चलता है कि कुछ गड़बड़ है और उसकी जांच की जरूरत है। 'फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशन' (एफआईईओ) के अनुसार, चीन के साथ भारत का व्यापार 2019 में 6.05 बिलियन डॉलर घटा है। यह अब 51.25 बिलियन डॉलर तक सीमित हो गया है। वहीं, 2019 में हांगकांग से व्यापार 5.8 बिलियन डॉलर के करीब बढ़ा है। इसी प्रकार, सिंगापुर के साथ भारत का व्यापार घाटा पिछले वित्तीय वर्ष में 5.82 बिलियन डॉलर था।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jul 01, 2020, 09:12 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




प्रतिबंधों की काट तलाशने में जुटा चीन, सिंगापुर और हांगकांग के जरिए भारत में कर सकता है निवेश #IndiaChinaBorder #GalwanValley #ShineupIndia