city-and-states

अभियुक्तों को जमानत दिलवाने के लिए के आरोपी डाक्टर बनाता था फर्जी चिकित्सा प्रमाण पत्र 

दिल्ली हाईकोर्ट ने अभियुक्तों को जमानत दिलाने और सजा निलंबित कराने के लिए फर्जी चिकित्सा प्रमाणपत्र जारी करने वाले आरोपी डॉक्टर के खिलाफ जांच के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने अपराध शाखा को इस मामले में जांच कर रिपोर्ट सौंपने के भी निर्देश दिए हैं। न्यायमूर्ति संजीव सचदेवा की एकल पीठ इस याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली पुलिस की कानूनी सेल और अभियोजन निदेशालय को रिकॉर्ड की छानबीन करने का निर्देश दिया। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि यह पता लगाया जाए कि कथित आरोपी डॉ. गजेंद्र कुमार नैयर के चिकित्सा प्रमाणपत्र और पैथोलॉजी की रिपोर्ट के आधार पर पिछले दो साल में कितने मामलों में आरोपियों या दोषियों को जमानत, अंतरिम जमानत दी गई और सजा को निलंबित किया गया। एक आरोपी की अंतरिम जमानत याचिका पर सुनवाई करने के दौरान आरोपी डॉक्टर की हकीकत का खुलासा हुआ। आरोपी ने द्वारका के एक निजी अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ नैयर का पर्चा देकर कोर्ट से कहा कि उसकी पत्नी को ओवेरियन सिस्ट है और तुरंत उसे सर्जरी कराने की जरूरत है। लेकिन जब पुलिस ने मामले की जांच की तो पता लगा कि जिस अस्पताल में आरोपी की पत्नी के भर्ती होने की बात कही गई, वहां उसकी पत्नी के भर्ती होने का काई रिकॉर्ड नहीं था। इसके साथ ही पुलिस ने कहा कि उस अस्पताल में उस सर्जरी की व्यवस्था ही नहीं थी, जिसके लिए चिकित्सा रिपोर्ट जारी की गयी थी।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jul 08, 2020, 03:16 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »




अभियुक्तों को जमानत दिलवाने के लिए के आरोपी डाक्टर बनाता था फर्जी चिकित्सा प्रमाण पत्र  #FakeMedicalCertificate #Bail #Accused #Doctor #DelhiHighCourt #ShineupIndia