city-and-states

जून से चलेंगी चार ट्रेन-रेलवे आरक्षण केंद्र पर पहले दिन रिजर्वेशन के लिए पहुंचे यात्री, 21 मार्च से बंद है रेलवे परिवहन

प्रवासी मजदूरों और अन्य यात्रियों की जरूरत को देखते हुए दो जून से चार ट्रेनों का संचालन होने जा रहा है। इसके लिए स्थानीय रेलवे ने तैयारी शुरू कर दी है। शुक्रवार से रेल आरक्षण केंद्र भी खोल दिया गया है, जहां से यात्री ट्रेनों में यात्रा के लिए आरक्षण करा सकेंगे। बिना आरक्षण के किसी यात्री को स्टेशन में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। इन ट्रेनों में जनशताब्दी एक्सप्रेस, सचखंड एक्सप्रेस, पश्चिम एक्सप्रेस और शहीद तथा सरयु यमुना एक्सप्रेस शामिल है। पहले की तरह ही शहीद एक्सप्रेस सप्ताह में चार दिन और सरयु-यमुना सप्ताह में तीन दिन चलेगी। करनाल रेलवे स्टेशन पर आरक्षण केंद्र खुलते ही शुक्रवार को लोगों की कतार लगने लगी। दोपहर दो बजे तक 40 से अधिक लोगों ने फार्म भरे। इन फार्म पर करीब 150 यात्रियों ने यात्रा के लिए आरक्षण करवाया है। अधिकतर यात्री बिहार की ओर जाने वाले हैं। ट्रेन संख्या 12057 जनशताब्दी एक्सप्रेस ऊना से नई दिल्ली करनाल स्टेशन पर सुबह 9.48 बजे पहुंचेगी। वापसी में नई दिल्ली से ऊना के लिए करनाल में ठहराव शाम 4.23 बजे है। दूसरी गाड़ी 12716 सचखंड एक्सप्रेस अमृतसर से नांदेड़ के लिए है। यह करनाल में सुबह 11.02 बजे है जबकि अप साइड में दोपहर 2.09 बजे ठहराव है। वहीं पश्चिम एक्सप्रेस गाड़ी नंबर-12926 अमृतसर से बांद्रा दोपहर 2.10 बजे है जबकि अप साइड में 12925 दोपहर 12.53 बजे करनाल पहुंचती है। इसके अलावा शहीद एक्सप्रेस 14674 अमृतसर से जयनगर-दरभंगा गाड़ी शाम 6.15 बजे करनाल पहुंचती है। यह गाड़ी सप्ताह में चार दिन मंगलवार, वीरवार, शुक्रवार और रविवार को चलती है, जबकि तीन दिन सरयु-यमुना एक्सप्रेस के नाम से सोमवार, बुधवार व शनिवार को चलती है। मास्क होगा अनिवार्य, स्टेशन पर यात्रियों की स्क्रीनिंग भी होगीकोरोना वायरस के चलते 21 मार्च को रेलवे यातायात बंद कर दिया गया था। जीआरपी और आरपीएफ के कर्मचारियों ने स्टेशन क्षेत्र को सील कर दिया था। जीआरपी थाना प्रभारी ताराचंद का कहना है कि ट्रेन चलने पर यात्री जब स्टेशन आएंगे तो उनकी स्क्रीनिंग की जाएगी। साथ ही मॉस्क अनिवार्य होगा। स्टेशन परिसर और ट्रेन में बैठने तक सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर पूरी निगरानी रखी जाएगी। यात्रियों को जागरूक किया जाएगा कि वह एक-दूसरे से दूरी बनाकर रखें। लॉकडाउन से पहले करनाल स्टेशन के आरक्षण केंद्र पर प्रतिदिन आरक्षण से करीब 2.50 लाख से तीन लाख तक राजस्व एकत्रित होता था। टिकटों की इतनी ही बिक्री सामान्य खिड़की पर थी। ऐसे में लाकडाउन के दौरान करनाल रेलवे को भी भारी चपत लगी है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 23, 2020, 02:30 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »

Read More:
Civic


जून से चलेंगी चार ट्रेन-रेलवे आरक्षण केंद्र पर पहले दिन रिजर्वेशन के लिए पहुंचे यात्री, 21 मार्च से बंद है रेलवे परिवहन #Civic #ShineupIndia