sahitya

पत्र - विश्व प्रसिद्ध कवि राइनर मारिया रिल्के का पत्र क्लेयरा के नाम

प्रिये, मैं इन थोड़े से शब्दों में तुम्हारे पांचवे पत्र के लिए धन्यवाद देता हूं। मैं तुम्हारे रंज को अच्छी तरह समझ सकता हूं और स्वयं उसे अनुभव कर सकता हूं, क्योंकि मैं उससे बहुत अच्छी तरह परिचित हूं। इस रंज का कारण ढ़ूंढ़ निकालना असंभव है। यह और कुछ नहीं, हम लोगों के दिलों में उपस्थित एक ऐसी दर्दीली जगह है जो जब दर्द करती है तो पता ही नहीं पता कि दर्द हो कहां रहा है। इसलिए हम समझ नहीं पाते कि अपने इस ख़ामोश, पर भरे दिल को हम कैसे समझें और कैसे इसका इलाज करें मैं यह सब जानता हूँ। इस रंज के समान ही एक खुशी की अनुभूति भी है। काश ! किसी तरह हम इन दोनों से दूर जा सकते।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 04, 2021, 15:20 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »

famous poet rainer maria rilke letters पत्र - विश्व प्रसिद्ध कवि राइनर मारिया रिल्के का पत्र क्लेयरा के नाम