city-and-states

शिक्षा और सेहत पर ध्यान देने से होगा छात्राओं का विकास

नोएडा। सेक्टर-39 स्थित कोविड अस्पताल में सोमवार को राष्ट्रीय बालिका दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में वक्ताओं ने लड़कियों की शिक्षा, स्वास्थ्य और विकास पर चर्चा की। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. ललित कुमार ने कहा कि बालिकाओं के विकास के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य और परिवार नियोजन पर ध्यान देने की जरूरत है। जब तक इन पर ध्यान नहीं दिया जाएगा, तब तक किसी भी तरह के विकास की बात अधूरी है, चाहे वह सामाजिक विकास हो अथवा आर्थिक।उन्होंने कहा कि बेटियां हमारी पहचान हैं। कन्या भ्रूण हत्या मानवता पर कलंक है, इसे रोकना होगा। उन्होंने कहा कि कोई भी काम केवल कानून के बल पर या जबरदस्ती नहीं कराया जा सकता। इसके लिए जागरूकता और मानसिकता में बदलाव की जरूरत है। धीरे-धीरे जागरूकता बढ़ भी रही है। जनपद में कोई भी निजी चिकित्सक और अल्ट्रासाउंड संचालक नियम विरुद्ध कोई काम नहीं करें, जो पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक (पीसीपीएनडीटी) अधिनियम के खिलाफ हो। उन्होंने कहा बालिकाओं के बिना समाज एवं घर परिवार वीरान हैं।जिला समन्वयक मृदुला सरोज ने बालिका दिवस को मनाने का मकसद बताया। उन्होंने कहा पीसीपीएनडीटी एक्ट बनने से काफी हद तक कन्या भ्रूण हत्या पर रोक लगी है, पर अभी लोगों की मानसिकता में बदलाव लाने की जरूरत है। अल्ट्रासाउंड मशीन बनाने का मकसद लोगों को स्वास्थ्य सहूलियत प्रदान करना था, लेकिन लिंग परीक्षण के रूप में इसका दुरुपयोग हो रहा है। हमें इसे रोकना होगा। उन्होंने कहा कि बालिकाएं किसी भी मामले में बालकों से कमतर नहीं हैं। उन्हें अच्छी शिक्षा, पोषण, माहौल और आत्मनिर्भर बनाने की जरूरत है।राष्ट्रीय बालिका दिवस पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उपलब्धि की याद दिलाता है। 24 जनवरी को इंदिरा गांधी पहली बार प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठी थीं, इसलिए इस दिन को राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है। कार्यक्रम में डॉ. योगेश शर्मा, डॉ. रवि पुष्करण, डॉ. देवेन सेठ, डॉ. ममता साहू, डॉ. राजश्री जसुजा, डॉ. तनुप्रिया, डॉ. पार्थ विश्वास, डॉ. अजय वर्मा, डॉ. आकांक्षा बत्रा, डॉ. विजय गोयल, डॉ. अलका मीना, रविना, कोमल, मनीषा, छाया, कमल, आशुदीप, संध्या यादव सहित स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उपस्थित रहे। घरेलू हिंसा के प्रति किया गया जागरूकराष्ट्रीय बालिका दिवस पर लायड लॉ कॉलेज में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान महिलाओं को घरेलू हिंसा, दहेज हत्या और एंटी रैगिंग आदि विषयों पर जानकारी देकर जागरूक किया गया। जिला विधि सेवा प्राधिकरण सचिव जयहिंद कुमार और जिला विद्यालय निरीक्षक धर्मवीर सिंह के दिशा-निर्देशन में आदर्श कन्या इंटर कॉलेज, रन्हेरा, सेलवेशन टिरी स्कूल, स्मारक कन्या इंटर कॉलेज, रियान पब्लिक स्कूल, वीजीएस विजनाथम स्कूल, जेपी इंटरनेशनल स्कूल में विधिक साक्षरता जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। शिविर में बताया गया कि सामाजिक भेदभाव के कारण समाज में बालिकाओं को अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस पर रोक लगनी चाहिए। इस दौरान स्लोगन लेखन, पोस्टर मेकिंग, हिंदी और अंग्रेजी निबंध लेखन आदि आयोजित की गईं। बालिकाओं के महत्व के बारे में लोगों में जागरूक करने के लिए वेबिनार भी आयोजित किया गया। इसका उद्देश्य लैंगिक समानता को बढ़ावा देना और कन्या भ्रूण हत्या को रोकना रहा। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर कार्यक्रम का आयोजनसेक्टर-62 स्थित यूपी इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन (यूपीआईडी) में राष्ट्रीय बालिका दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें विद्यार्थियों और शिक्षकों ने ऑनलाइन हिस्सा लिया। दौरान शिक्षकों ने शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता और समानता के क्षेत्र में बालिकाओं को सशक्त बनाने में शिक्षा मंत्रालय की उपलब्धि के बारे में बताया।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jan 25, 2022, 01:45 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »


शिक्षा और सेहत पर ध्यान देने से होगा छात्राओं का विकास