health-fitness

चिंता की बात: कोरोना के वैरिएंट सुपर-सेल में फैलकर एंटीबॉडीज से बचने में सक्षम, अध्ययन में दावा

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद या वैक्सीन लग जाने के बाद हमारे शरीर में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडीज बन जाती हैं, जो संक्रमण से बचाव करती हैं और गंभीर रूप से बीमार होने से भी बचाती हैं। लेकिन हाल के दिनों में कोरोना के ऐसे कई स्वरूपों का पता चला है, जो एंटीबॉडीज से बच कर संक्रमण फैलाने में सक्षम हैं। अब एक नए अध्ययन में यह पता चला है कि कोरोना वायरस के स्वरूप सुपर-सेल में फैलकर एंटीबॉडीज से बच सकते हैं। अध्ययन के मुताबिक, अधिक संक्रामक कोरोना वायरस मानव कोशिकाओं में बदलाव कर सकता है। वह संक्रमित कोशिका को आसपास की कोशिकाओं के साथ जोड़कर उन्हें सुपर-सेल में बदल सकता है। आकार में सामान्य कोशिकाओं के मुकाबले बड़े होने और जेनेटिक मटेरियल में समृद्ध होने के कारण ये सुपर-सेल कोरोना वायरस को फैलाने में अहम भूमिका निभाते हैं। इस सुपर-सेल को सिंथिया भी कहा जाता है।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: Jun 13, 2021, 14:35 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »


अध्ययन के मुताबिक, अधिक संक्रामक कोरोना वायरस मानव कोशिकाओं में बदलाव कर सकता है। वह संक्रमित कोशिका को आसपास की कोशिकाओं के साथ जोड़कर उन्हें सुपर-सेल में बदल सकता है।