city-and-states

औरैया पंचायत चुनाव: अंगूठे ने तोड़े प्रत्याशियों के अरमान, जानकारी न होने पर मुहर के स्थान पर लगा दिया अंगूठा

औरैया जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जागरुकता का अभाव भी सामने आया है। हजारों मतदाताओं को पता ही नहीं था कि उन्हें अंगूठा लगाना है या मुहर। मतगणना के दौरान हर ब्लाक में हजारों वोट ऐसे निकले, जिनमें अंगूठा लगा पाया गया। निर्वाचन विभाग के नियमों के तहत ऐसे मतपत्रों को निरस्त कर दिया गया। इससे नजदीकी अंतराल से हार-जीत वाले प्रत्याशियों के अरमानों पर पानी फिर गया। 26 अप्रैल को हुए मतदान में जिले के सात ब्लाकों में चार पदों के लिए 11373 प्रत्याशी मैदान में थे। गांव की सरकार चुनने के लिए लोगों ने बढ़ चढ़ कर मतदान किया। 72.44 फीसदी मतदान हुआ। रविवार को सात ब्लाक केंद्र पर मतगणना शुरू हुई। शुरुआत से हर मतपेटिका में दर्जनों वोट निरस्त हुए। धीरे-धीरे इनका आंकड़ा बढ़ता ही गया। इनमें सबसे ज्यादा ऐसे वोट थे जिन पर मुहर की जगह मतदाताओं ने अंगूठा लगाया था। इसी तरह पूरे जिले में हजारों मतपत्र निरस्त कर दिए गए। इन मतदाताओं को पहले से ही जागरूक किया जाता तो शायद यह वोट निरस्त न होते। कई मतदाताओं ने चुना चिह्न के कालम के बाहर मुहर लगाई थी। मतगणना कर्मियों ने उन्हें भी निरस्त करार दिया। वहीं कुछ मतपत्रों पर कई चुनाव चिह्न के सामने मुहर लगी मिली, इस पर उन्हें भी निरस्त कर दिया गया। कुछ मतपत्रों में पीठासीन अधिकारी के हस्ताक्षर नहीं मिले तो कुछ मतपत्रों में किसी भी प्रकार का कोई निशान नहीं था। खाली मिले मतपत्रों को लेकर अटकलें रही कि पंचायत चुनाव में नोटा का विकल्प नहीं होता है, इसलिए मतदाताओं ने खाली छोड़ दिया है। मतपत्रों पर अंगूठा लगा पाए जाने से सबसे ज्यादा उनके अरमानों पर पानी फिरा, जो कम वोटों से पिछड़े थे।

  • Source: www.amarujala.com
  • Published: May 04, 2021, 15:18 IST
पूरी ख़बर पढ़ें »

औरैया जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जागरुकता का अभाव भी सामने आया है। हजारों मतदाताओं को पता ही नहीं था कि उन्हें अंगूठा लगाना है या मुहर। मतगणना के दौरान हर ब्लाक में हजारों वोट ऐसे निकले, जिनमें अंगूठा लगा पाया गया।